चीन को घेरने का प्लान, भारतीय नौसेना की बड़ी तैयारी, अमेरिका भी देगा साथ

चीन को घेरने का प्लान, भारतीय नौसेना की बड़ी तैयारी, अमेरिका भी देगा साथ

निमित्ज अभी हिंद महासागर में तैनात है और नेवी अंडमान और निकोबार द्वीप तट पर युद्धाभ्यास कर रही है.

एयरक्राफ्ट कैरियर निमित्ज यूएसएस थियोडोर रुजवेल्ड के साथ साउथ चाइना सी में वॉरगेम्स का हिस्सा था. निमित्ज पहले से ही मलक्का स्ट्रेट के रास्ते हिंद महासागर में मौजूद है, ये स्ट्रेट मलेशिया और इंडोनेशिया के बीच का बेहद संकरा रास्ता है जो इस लिहाज से काफी अहम है, क्योंकि इस रास्ते से चीन समेत पूरे एशिया के लिए तेल सप्लाई होता है.

अमेरिका के साथ भारत का ये सम्भावित संयुक्त युद्धाभ्यास उसी तर्ज पर होगा, जैसे जून 2020 में भारत की नेवी ने जापान की नेवी के साथ किया था. भारत और जापान के संयुक्त अभ्यास को ‘पासेक्स’ नाम दिया गया, पासिंग एक्सरसाइज यूएस नेवी का वो अभ्यास है, जिसके जरिए दो देश युद्धकाल में एक दूसरे से डिजिटल या इलेक्ट्रोनिक तरीके से संपर्क मे रहने और सहयोग करने का अभ्यास करते हैं.

एयरक्राफ्ट कैरियर निमित्ज यूएसएस थियोडोर रुजवेल्ड के साथ साउथ चाइना सी में वॉरगेम्स का हिस्सा था. दोनों ने फिलीपींस सी में डुअल कैरियर ऑपरेशंस किए, जिसको आयोजित करने के बारे में अमेरिकन नेवी ने कहा था, “अपने क्षेत्रीय मित्रों के लिए प्रतिबद्धता दिखाने के लिए, हिंद-प्रशांत महासागर में तेजी से अपनी सामूहित प्रतिरोधक ताकत की योग्यता दिखाने के लिए, और क्षेत्रीय स्थिरता को बरकरार रखने में सहयोग देने वाले अंतरराष्ट्रीय नियमों को चुनौती देने वालों के खिलाफ हमारी तत्परता दिखाने के लिए”.

ये खबर इसलिए भी महत्वपूर्ण है, क्योंकि चीन ने हिंद महासागर में अपनी उपस्थिति में बढ़ोत्तरी कर दी है. चीन का चीन से बाहर केवल एक ही मिलिट्री बेस है, जोकि हॉर्न ऑफ अफ्रीका (लाल सागर के दक्षिणी किनारे पर) के जिबूती में है, जो रणनीतिक रुप महत्वपूर्ण से स्वेज नहर, अदन की खाड़ी और हिंद महासागर को जोड़ने वाले सामुद्रिक मार्ग के मुहाने पर है.

ये खबर चीन के आक्रामक रवैये की खबरों के बीच आई है. पिछले महीने चीन और भारत की बीच लद्दाख सीमा पर उस वक्त एक हिंसक झड़प हो गई थी. इस बीच, ये अहम संभावना भी है कि अमेरिका, जापान और भारत के साथ ऑस्ट्रेलिया भी मालाबार युद्धाभ्यास में इस साल के अंत में भाग लेगा. चारों देशों के बीच पहले से ही एक समझौता QUAD (The Quadrilateral Security Dialogue) भी है, जिसके लिए सभी विदेश मंत्री पिछले साल मिले भी थे.

 

देश-विदेश की ताजा ख़बरों के लिए बस करें एक क्लिक और रहें अपडेट 

हमारे यू-टयूब चैनल को सब्सक्राइब करें :

हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें :

कृपया हमें ट्विटर पर फॉलो करें:

हमारा ऐप डाउनलोड करें :

हमें ईमेल करें : [email protected]

Related Articles

Back to top button
Close