तबरेज की मौत को मानवता पर धब्बा लगाने वाले कांग्रेसी दुमका मॉब लींचिंग पर मौन क्यों- दास

रांची। झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि वर्ष 2019 में तबरेज अंसारी की मौत को मानवता पर धब्बा बताने वाले कांग्रेस नेता राहुल गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद, सीपीएम, सीपीआई एवं अनेक संगठनों ने दुमका में 11 मई को बकरी चोरी के नाम पर सुभान अंसारी की हुई मॉब लींचिंग पर आखिर क्यों मौन हैं?

रघुवर दास ने कहा कि जिस प्रकार 11 मई को मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के गृह जिला दुमका में सरेआम काठीकुंड, शिकारीपाड़ा थाना क्षेत्र में बकरी चोरी का आरोप लगाकर दो लोगों की निर्मम पिटाई की गई और उनमें से एक सुभान अंसारी की मौत हो गई.

उन्होंने कहा कि यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है. इस घटना को बीते चार दिन हो गए, लेकिन अब तक मॉब लिचिंग के शिकार सुभान अंसारी के लिए न तो कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को आंसू बहाने का समय मिला और पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी तथा उनकी बहन प्रियंका गांधी को कहने या ट्वीट करने का मन हुआ. इनलोगों के ट्वीट और आंसू भी आखिर सेलेक्टिव क्यों होते हैं.

दास ने कहा कि इन्हीं राहुल गांधी ने 17 जून 2019 को सरायकेला में तबरेज अंसारी पर हुए हमले पर मोटे-मोटे आंसू बहाए थे और 22 जून को तबरेज की मौत के बाद इसे मानवता पर धब्बा बताया था और आरोप लगाया कि इस मामले में राज्य और केंद्र सरकार की कथित चुप्पी हैरान करने वाली है.

इतना ही नहीं राज्यसभा में अपने भाषण में कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने सरायकेला की घटना के बाद पूरे झारखंड को मॉब लिचिंग का अड्डा बता दिया था.

उन्होंने कहा कि सुभान अंसारी के मामले में अब तक गुलाम नबी आजाद ने भी अपनी जुबान नहीं खोली.

दास ने कहा कि तबरेज के मामले में सी.पी.एम, सी.पी.आई एवं अनेक संगठनों ने अपनी पार्टियों के प्रतिनिधि सरायकेला भेज दिया था. वर्तमान सरकार में कांग्रेसी मंत्री ने घर जाकर आर्थिक सहायता भी दी थी.

इस तरह इस मामले को अंतर्राष्ट्रीय मुद्दा बनाकर देश को बदनाम करने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी थी. अब जब दुमका में सुभान अंसारी की मॉब लिचिंग से निर्मम हत्या की गई तो इन सभी की जबान पर ताला लटक गई है, किसी जांच या मदद की मांग नहीं की जा रही है, आखिर ऐसा क्यों?

रघुबर दास ने कहा कि ऐसा दोहरा व्यवहार सिर्फ किया जा रहा है क्योंकि उस समय भाजपा की सरकार थी और आज यहां जेएमएम के नेतृत्व में कांग्रेस, आरजेडी एवं वामपंथियों की अवसरवादी सरकार शासन में है.

उन्होंने कहा कि भीड़ के हाथों किसी की भी मौत गैरकानूनी और निंदनीय होती है, चाहे वह तबरेज की मौत हो या सुभान अंसारी की हत्या हो.

उन्होंने मांग किया कि अंसारी के मामले की जांच के लिए एसआईटी का गठन करना चाहिए और उसकी पत्नी खैरून बीबी एवं पीडि़त परिवार को आर्थिक मदद की जानी चाहिए.

रघुबर दास ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से पूछा कि वह और उनकी पार्टी तो दावा करती थी कि अभी सरकार में मॉब लिचिंग नहीं होगी तथा किसी की भी भूख से मौत नहीं मौत नहीं होगी, लेकिन अब इस तरह उनके गृह जनपद दुमका में हुई मॉब लिचिंग पर आखिर उनके पार्टी के नेताओं के होठ क्यों सिले हुए हैं.

उन्होंने पूछा कि रामगढ़ के गोला में संग्रामपुर गांव में तीन अप्रैल को 17 वर्षीय दलित महिला उपासो देवी की भूख से हुई मौत का जिम्मेदार आखिर कौन है. ऐसे मामलों को दबाने से काम नहीं चलेगा.

सरकार को इसकी जिम्मेदारी लेनी होगी और जनता को बताना होगा कि चुनाव में किए गए वादों का क्या हुआ? जब वह चीख-चीख कर कहा करते थे उनके राज्य में कभी मॉब लिचिंग नहीं होगी और भूख से किसी गरीब की मौत नहीं होगी.

 

देश-विदेश की ताजा ख़बरों के लिए बस करें एक क्लिक और रहें अपडेट 

हमारे यू-टयूब चैनल को सब्सक्राइब करें :

हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें :

कृपया हमें ट्विटर पर फॉलो करें:

हमारा ऐप डाउनलोड करें :

हमें ईमेल करें : [email protected]

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close