पी चिदंबरम केस पर कुमार विश्वास ने चुटकी, तो लोग बोले- ‘नेहरूजी हैं जिम्मेदार’

नई दिल्ली। आईएनएक्स मीडिया मामले में पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम को पूछताछ के लिए विशेष अदालत द्वारा सीबीआई की चार दिन की रिमांड में भेजे जा चुका है. पी चिदंबरम को जहां कांग्रेस बेदाग बता रही है. वहीं, बीजेपी पी चिदंबरम और कांग्रेस दोनों पर आरोप लगा रहा है. गिरफ्तारी से पहले जिस तरह चिंदबरम फरार थे, उस पर कुमार विश्वास अपने ही अंदाज में चुटकी ली है.

 

Dr Kumar Vishvas

@DrKumarVishwas

Moral of the story- “तोता” किसी का नहीं “होता” 😷🙏

6,007 people are talking about this

कुमार विश्वास ने अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा, ‘तोता’ किसी का नहीं ‘होता’. हालांकि उन्होंने सीबीआई का जिक्र इस ट्वीट में नहीं किया है. इस ट्वीट पर लोगों के रिएक्शन भी आने शुरू हो गए हैं. इस ट्वीट को 4 हजार से ज्यादा लोगों ने रीट्वीट किया है और करीब 2 हजार लोगों ने इस ट्वीट पर कमेंट किया है.

 

Dr Kumar Vishvas

@DrKumarVishwas

जाँच राजनीति प्रेरित हो सकती हैं,आज के गृहमंत्री/प्रधानमंत्री के ख़िलाफ़ वर्षों होती रही हैं ! लेकिन राजनिति में होकर,देश के पूर्व क़ानून/गृहमंत्री/वित्तमंत्री जी, क़ानून से भागकर आप अपना और अपने दल का पक्ष कमजोर ही कर रहे हैं ! निर्दोष हैं तो मैदान में लड़िए

6,739 people are talking about this
इस ट्वीट से पहले भी कुमार विश्वास ने एक ट्वीट किया था, जिसमें उन्होंने लिखा था, जांच राजनीति प्रेरित हो सकती हैं, आज के गृहमंत्री/प्रधानमंत्री के खिलाफ वर्षों होती रही हैं! लेकिन राजनिति में होकर, देश के पूर्व कानून/गृहमंत्री/वित्तमंत्री जी, कानून से भागकर आप अपना और अपने दल का पक्ष कमजोर ही कर रहे हैं! निर्दोष हैं तो मैदान में लड़िए #ChidambaramMissing

आईएनएक्स मीडिया मामले में पूछताछ के लिए विशेष अदालत द्वारा सीबीआई की चार दिन की रिमांड में भेजे गए पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम से देर रात 12 बजे तक पूछताछ हुई. रात तक पूछताछ चलने के बाद ही वह सो पाए. हालांकि वे सुबह 7 बजे से पहले ही उठ गए, जिसके बाद चाय पीने के बाद उनसे दोबारा पूछताछ का दौर शुरू हो गया.

उल्‍लेखनीय है कि सीबीआई की विशेष अदालत ने गुरुवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम को आईएनएक्स मीडिया मामले में पूछताछ के लिए सीबीआई की चार दिन की हिरासत में भेज दिया है. विशेष न्यायाधीश अजय कुमार कुहार ने यह फैसला सुनाया. दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद जज ने फैसला सुरक्षित रख लिया था, जिसके कुछ समय बाद फैसला सुनाया गया.

अदालत ने यह भी कहा कि चिदंबरम के परिवार के सदस्य और उनके वकील उनसे मिलने के लिए स्वतंत्र होंगे. सीबीआई का प्रतिनिधित्व करते हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने वरिष्ठ कांग्रेस नेता को हिरासत में लेने की मांग की.

 

देश-विदेश की ताजा ख़बरों के लिए बस करें एक क्लिक और रहें अपडेट 

हमारे यू-टयूब चैनल को सब्सक्राइब करें :

हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें :

कृपया हमें ट्विटर पर फॉलो करें:

हमारा ऐप डाउनलोड करें :

हमें ईमेल करें : [email protected]

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button