चीन ने अमेरिका को चेताया, कहा- ‘गैरदोस्ताना खतरनाक’ गतिविधियों को रोके

पेइचिंग। दक्षिणी व पूर्वी सागर क्षेत्र पर चीन और अमेरिका में बढ़ती तनातनी के बीच पेइचिंग ने वॉशिंगटन से कहा है कि वह ‘गैरदोस्ताना खतरनाक’ सैन्य गतिविधियों को रोक दे। चीन ने मंगलवार को इस बात से साफ इनकार किया उसके लड़ाकू विमान के पायलटों ने अंतरराष्ट्रीय वायु सीमा में अमेरिका के टोही विमानों के खिलाफ खतरनाक तरीके से विमान उड़ाया था जिसके कारण अमेरिकी पायलट को दिक्कत हुई थी।

चीनी रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता रेन जियोक्येंग ने एक बयान जारी कर कहा कि दो J-10 लड़ाकू विमान के पायलटों की प्रतिक्रिया कानूनी, जरूरी और प्रफेशनल थी। रेन ने अमेरिका के टोही विमानों की बढ़ती संख्या पर निंदा करते हुए कहा कि इस तरह के मिशन से चीन की राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरा है और चीन-अमेरिका एयर मिलिटरी सुरक्षा पर असर पड़ सकता है।

उन्होंने कहा कि अमेरिका को इस तरह की असुरक्षित, अनप्रफेशनल और गैरदोस्ताना मिलिटरी गतिविधियों को रोकना चाहिए। चीनी विदेश मंत्रालय के रोजाना होने वाली मीडिया ब्रीफिंग के दौरान प्रवक्ता लु कंग ने कहा कि पेइचिंग इस तरह के मिशन का विरोध करता रहा है, लेकिन दूसरे देशों के साथ आपसी विश्वास के लिए भी चीन प्रतिबद्ध है।

गौरतलब है कि रविवार को हथियार से लैस चीन के लड़ाकू विमानों ने अमेरिकी नौसेना के एक टोही विमान का काफी दूरी तक पीछा किया और बेहद खतरनाक ढंग से उस विमान के करीब आ गया। चीन के विमान US प्लेन के इतने करीब आ गए थे कि उनके बीच टक्कर हो सकती थी। जिस समय यह घटना हुई, तब अमेरिका का टोही विमान अंतरराष्ट्रीय हवाई सीमा में था। चीन के लड़ाकू विमान बेहद खतरनाक तरीके से अमेरिकी विमान के नजदीक आ गए थे। US क्रू सदस्यों ने हादसे की आशंका को टालने के लिए अपने विमान को वहां से हटा लिया। अमेरिका रक्षा विभाग के मुख्यालय पेंटागन ने सोमवार को यह जानकारी दी। इससे पहले भी कई मौकों पर अमेरिका और चीन ईस्ट व साउथ चाइना सी में एक-दूसरे के सामने आ चुके हैं।

वाइस न्यूज के मुताबिक, चीन के दो J-10 फाइटर जेट्स ने अमेरिकी नौसेना के EP-3 सैनिक विमान का पूर्वी चीन सागर और येलो सी के बीच पीछा किया। इनमें से एक चीनी विमान कथित तौर पर अमेरिकी विमान के इतने करीब आ गया कि उस प्लेन का अलार्म बजने लगा। यह अलार्म तब बजता है जब विमान किसी चीज से टकराने वाला होता है। US नेवी के कैप्टन जेफ डेविस ने सोमवार को पत्रकारों से बात करते हुए कहा, ‘चीनी सेना की ओर से जिस तरह का व्यवहार हम आमतौर पर देखते हैं, यह उस तरह का बर्ताव नहीं था।’ कैप्टन डेविस ने बताया, ‘अंतरराष्ट्रीय हवाई सीमा के अंदर सभी देश नियमित तौर पर अपने टोही विमानों को भेजते हैं। इनमें से ज्यादातर गतिविधियां शांत और सुरक्षित तरीके से होती हैं। रविवार को चीनी वायु सेना के विमानों ने हमारे विमान के साथ जो किया वह अपवाद है। आमतौर पर कोई ऐसा नहीं करता है।’

 

देश-विदेश की ताजा ख़बरों के लिए बस करें एक क्लिक और रहें अपडेट 

हमारे यू-टयूब चैनल को सब्सक्राइब करें :

हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें :

कृपया हमें ट्विटर पर फॉलो करें:

हमारा ऐप डाउनलोड करें :

हमें ईमेल करें : tah[email protected]

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button